Skip to content

“बेटी”

ज़ैद बलियावी

ज़ैद बलियावी

गीत

January 22, 2017

((((((( बेटी )))))))
———————————

जब शाम को घर को आऊ,
वो दौड़ी-दौड़ी आए….
लाकर पानी पिलाए,
बेटी…हॉ बेटी….,
फिर सिर को मेरे दबाए,
दिन भर का हाल बताए..
फिर छोटी-छोटी ख्वाहिश,
अपनी मुझे सुनाए….
बेटी….हॉ बेटी…..
दिन हर दिन बदला जाए,
फिर वक़्त बदल ही जाए..
वो रोटी मुझे बनाए…
बेटी…हॉ बेटी….
फिर सजके बारात एक दिन,
उसको लेने आए…
और करके आँखे फिर नम,
वो दूर चली ही जए..
बेटी.. हॉ बेटी…
फिर शाम को घर जब आऊँ,
मेरी आहट उसे बुलाए..
मेरी नज़र ढूंढ न पाए,
बेटी.. हॉ बेटी….

((((( ज़ैद बलियावी)))))

Author
ज़ैद बलियावी
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.
Recommended Posts
बेटी का हक़
 बेटी का हक़     कवियों ने बेटी पर कईं कविताएं लिखी    किसी ने बेटी की महिमा किसी ने व्यथा लिखी   मैंने सोचा क्या... Read more
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Neelam Ji कविता Feb 23, 2017
**बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ** पढ़ेगी बेटी आगे बढ़ेगी बेटी । बेटों से भी बढ़कर चमकेगी बेटी । जग में नाम रोशन करेगी बेटी । हर... Read more
बेटी है तो
घर, घर है गर घर में बेटी है बेटी है तो खेल हैं,खिलौने हैं मीठी-सी बोली है ढेर सारे सपने हैं हँसी है, ठिठोली है... Read more
जागो कहाँ गुम हो बेटी
बहुधा लिखी गयी 'बेटी' लेकिन अवर्णित है 'बेटी' फिर से कलम की नोक पे है काँटों की नोक पे जो बेटी नभ छूकर आयी है... Read more