बेटी

******************************************
विधा—–गीतिका
छंद——पदपादाकुलक छंद
मात्रा भार—16
समान्त—–आना
पदान्त——है
÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷
शीर्षक—-बेटी
~~~~||||~~~~

बेटी का मान ————बढ़ाना है।
इनके अधिकार ——-दिलाना है।

उपहार खुदा————का है बेटी,
सब हुनर जिसे——सिखलाना है।

हो भेद न —– लड़के लड़की में
अब यह अन्याय——-मिटाना है।

गर्भस्थ पुत्री जो है———-उसको,
जीवन संसार ———दिखाना है।

पोषण कर बेटी का ——-इनको
आयाम नये दिलवाना ——– है।

ममता को जन्म दिया —–तनया
धरती मे इसे ———–बसाना है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
नीरज पुरोहित रूद्रप्रयाग(उत्तराखण्ड)

8 Views
You may also like: