Skip to content

बेटी

LAKHNAWI JI (लखनवी जी)

LAKHNAWI JI (लखनवी जी)

कविता

January 15, 2017

मेरी भी जमी है, है मेरा आसमां ;
मुझे भी जीने का अधिकार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !

न तोड़िये मुझे मैं नाजुक सी गुड़िया हूँ ;
मुझे भी माँ के आँचल से लिपटने का अधिकार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !

बेटी हूँ तो क्या बेटे से कम नहीं ;
तेरे साये में हूँ तो कोई भी ग़म नहीं ;
न छोड़िये मुझे इस अँधेरे में अकेला ;
मुझे भी उजालों का संसार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !

न धन – न दौलत पर मुझे अधिकार चाहिए ;
मैं अंश हूँ आप दोनों के अंग का ;
मुझे ममता के साये में रहने का अधिकार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !

न छोड़िये अकेला मुरझा जाऊंगी मैं ;
फूल हूँ, मुझे भी महकने का अधिकार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !!
@lakhnawiji (7071497236)
www.facebook.com/lakhnawiji

Author
Recommended Posts
****मैं और मेरे पापा****
माँ का प्यार कैसा होता है । पापा के सीने से लगकर ही यह जाना है । माँ की सूरत तो नहीं देखी है ।... Read more
बेटी हूँ या भूल
जिस दिन मेरा जन्म हुआ तुम, फूट फूट क्यों रोई माँ क्या सपनों की माला टूटी, जो तुमने पिरोई माँ जब मैं तेरी कोख में... Read more
धूप मेँ भी चाँद का दीदार होना चाहिए
धूप मेँ भी चाँद का दीदार होना चाहिए आदमी को आदमी से प्यार होना चाहिए माँ- बहन , भाई को माना प्यार है तुमसे बहुत... Read more
माँ मुझे संसार दिखाओ
RASHMI SHUKLA लेख Mar 2, 2017
बेटी कहती है माँ से क्यों सबकी सुना करती हो, मुझे क्यों सबके कहने से भुला देती हो, मुझे भी सबके बीच बुलाओ, माँ मुझे... Read more