.
Skip to content

बेटी

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

कविता

January 13, 2017

जिस घर के आँगन में बेटी है वहाँ तुलसी की जरूरत नहीं,
देखो बेटी की सूरत से जुदा यहाँ किसी देवी की सूरत नहीं।

खुशियाँ पता पूछती हैं उस घर का जहाँ बेटियाँ रहती हैं,
बेटियों वाले घर से वो जन्नत भी ज्यादा खूबसूरत नहीं।

रिश्तों की नजाकत बेटियों से बेहतर कोई नहीं समझता,
आज की बेटी, कल की माँ जैसी जगत में कोई मूरत नहीं।

दौलत बाँटते हैं बेटे, दुःख को खुशियों में बदलती है बेटियाँ,
बेटी के हाथों से कार्य की शुरुआत से बढ़कर शुभ मुहूर्त नहीं।

बहुत खुशकिस्मत है “सुलक्षणा” जो एक बेटी की माँ बनी,
जो करती है बेटी से नफरत, मेरी नजर में वो औरत नहीं।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
" बेटियाँ " ------------ ये पूछो मत मुझसे क्या होती है बेटी न शब्द न परिभाषा में बंधती है बेटी। * चिड़िया नहीं, ममता से... Read more
"बेटी " आन बान मान बेटी, सबकी हैं शान बेटी। हर जगह बेटी का, सम्मान होना चाहिए। घर भी चलायें बेटी, वंश भी बढ़ाये बेटी।... Read more
बेटियाँ
बेटी बचाइये!बेटी बचाइये!! बेटी से सृष्टि चलती नव सभ्यता पनपती दो-दो कुलों में बनकर दीपक की लौ चमकती बेटी पराया धन है मन से निकालिए।... Read more
?बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ?
?? जलहरण घनाक्षरी ?? ?????????? *बेटियां बचाओ* और *बेटियां पढ़ाओ* सब बेटियों पे टिका जग बेटी है परम् धन। कोख में जो बेटी हो तो... Read more