.
Skip to content

बेटी है तो

विजय कुमार नामदेव

विजय कुमार नामदेव

कविता

January 12, 2017

घर, घर है
गर
घर में बेटी है
बेटी है तो
खेल हैं,खिलौने हैं
मीठी-सी बोली है
ढेर सारे सपने हैं
हँसी है, ठिठोली है
बेटी है तो
गुड्डे हैं, गुड़िया है
रोज इनकी शादी है
बेटी का होना ही
सच्ची आजादी है
बेटी है तो
घर में बहार है
तीज है, त्यौहार है
ढेर सारी खुशियां हैं
रिश्तों में प्यार है
बेटी है तो
जीवन का
हर दिन मधुमास है
बेटी से ही मुझे अपने
पितृत्व का अहसास है
बेटी से ही घर मेरा
घर जैसा बना है
मैं हूँ खुशकिस्मत
मेरी बेटी चेतना है।

Author
विजय कुमार नामदेव
सम्प्रति-अध्यापक शासकीय हाई स्कूल खैरुआ प्रकाशित कृतियां- गधा परेशान है, तृप्ति के तिनके, ख्वाब शशि के, मेरी तुम संपर्क- प्रतिभा कॉलोनी गाडरवारा मप्र चलित वार्ता- 09424750038
Recommended Posts
बेटी का है सम्मान
कविता बेटी का है सम्मान - बीजेन्द्र जैमिनी बेटी पढा़ओ- शिक्षा है वरदान मानव जाति का है कल्याण बेटी का है सम्मान बेटी बचाओ -... Read more
आज भी बेटी कल भी बेटी
*हलचल बेटी* एक सवाल एक हल भी बेटी,, आज भी बेटी कल भी बेटी,, खामोशी इन लवो की बेटी,, और दिल की हलचल बेटी,, आसानी... Read more
बेटी
♡♤ बेटी ♤♡ माँ के हाथों का साथ है बेटी, नई मुस्कान की सौगात है बेटी, बेटी का प्रेम आँखों में बसता, परिवार के आँखों... Read more
बेटी
शक्ति का संचार है बेटी भक्ति का द्वार है बेटी मुक्ति का मार्ग है बेटी सृजन संसार है बेटी मन का भाव है बेटी रामायण... Read more