Skip to content

बेटी हूँ मैं…

मोनिका भाम्भू कलाना

मोनिका भाम्भू कलाना

कविता

January 10, 2017

लाख जंजीरें हो बंधी हुई
कितनी ही बेड़ियों में जकड़ी हुई
ख़ुशी से सब सहती हूँ मैं
किसी से कुछ न कहती हूँ मैं
सदा ख़्याल है मुझे
आख़िर एक बेटी हूँ मैं…।

हर तूफान को झेलती हूँ
पिता तुम्हारे अरमान से खेलती हूँ
तुम मेरी राहें फूलों से सजा देते
तुम मेरे सपनों का चाँद ला देते
तुम्हारी विवशताएं जानती हूँ
तुम्हारी खातिर बोझ नहीं हूँ मैं….।

जब-जब लगे अँधियारा,कदम सम्भाल के
चलती हूँ,
तुम्हारे आशीर्वादों की चादर तान के
चलती हूँ,
जमाने की बुरी नजरें ताकती है हर और,
भद्दी गालियां रोकती है मुझे,
तुम्हारी इज्जत के लिए खामोश रहती हूँ मैं ,
आखिर एक बेटी हूँ मैं…।

Share this:
Author
मोनिका भाम्भू कलाना
कभी फुरसत मिले तो पढ़ लेना मुझे, भारी अन्तर्विरोधों के साथ दृढ़ मानसिकता की पहचान हूँ मैं..॥

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you