Skip to content

बेटी (शायरी)

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

शेर

August 13, 2016

देवालय में बजते शंख की ध्वनि है बेटी,
देवताओं के हवन यज्ञ की अग्नि है बेटी।
खुशनसीब हैं वो जिनके आँगन में है बेटी,
जग की तमाम खुशियों की जननी है बेटी।।

********************************************

बड़े नसीब वालों के घर जन्म लेती है बेटी,
घर आँगन को खुशियों से भर देती है बेटी।
बस थोड़ा सा प्यार और दुलार चाहिए इसे,
थोड़ी संभाल में लहलहाए वो खेती है बेटी।।

*********************************************

फूलों सी कोमल हृदय वाली होती हैं बेटियाँ,
माँ बाप की एक आह पर ही रोती हैं बेटियाँ।
भाई के प्रेम में खुद को भुला देती हैं अक्सर,
फिर भी आज गर्भ में जान खोती हैं बेटियाँ।।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
बेटियां एक सहस
बेटी ही लती है घर में, खुशियों का अनुपम उपहार। बेटी से ही होता निर्मल, पावन सकल ये घर संसार।।1।। मातपिता की सेवा करना, उनके... Read more
बेटी
जिस घर के आँगन में बेटी है वहाँ तुलसी की जरूरत नहीं, देखो बेटी की सूरत से जुदा यहाँ किसी देवी की सूरत नहीं। खुशियाँ... Read more
गीत. बेटियाँ
Geetesh Dubey गीत May 25, 2017
गीत **** बेटी नही तो ये जहान क्या जहान है रॊनक कहाँ है फिर तो महज वो मशान है । माँ बाप के अब्सार की... Read more
*बेटी होती नहीं पराई ...*
बेटी होती नहीं पराई । पराई कर दी जाती है ।। पाल पोसकर जब की बड़ी । कहकर पराई क्यूँ विदा कर दी जाती है... Read more