.
Skip to content

बेटी भी तू जननी भी तू

श्यामू सिंह

श्यामू सिंह

कविता

January 12, 2017

बेटी भी तू जननी हुई तू ,
ममता का समंदर तू।

तु ही दुर्गा तू ही काली,
खुशियों का बवंडर तू।

तुझसे ही है सारी दुनिया,
इस बगिया की माली तू।

सूर्य सा है तेज तेरा,
चाँद की शीतल लाली तू।

हँसी तेरी सरगम जैसी,
चंडी तू दयालु तू।

सरस्वती सी सूरत तेरी
धन,मन,अर्पण,जीवन तू।

बेटी भी तू जननी हुई तू ,
ममता का समंदर तू।।

Author
श्यामू सिंह
मैं साहित्य प्रेमी व्यक्ति हूँ, न तो मैं दक्ष कवि हूँ, न ही लेखक बस कुछ खुबसूरत पंक्तियों को खूबसूरती से एक धागे में पिरोने का प्रयास करता हूँ,और बस एक हार तैयार हो जाती है और उसकी खूबसूरती तो... Read more
Recommended Posts
बेटी भी तू जननी भी तू
बेटी भी तू जननी हुई तू , ममता का समंदर तू। तु ही दुर्गा तू ही काली, खुशियों का बवंडर तू। तुझसे ही है सारी... Read more
***नारी है ***कमजोर नहीं तू ***
***अबला जीवन तेरी यही कहानी*** *******आँचल में है दूध****** ***********और*********** *******आंखों में है पानी****** (((इस कथन को हमें झुठलाना है))) *****नारी तू कमजोर नहीं है*****... Read more
नारी
नारी तेरे कई रूप तू वसुधा तुझमें समाए सब स्वरूप चंचल तन है और मन निर्मल व्यवहार भी कुशल और वाणी कोमल सदैव समर्पिता तू... Read more
नारी
नारी तेरे कई रूप तू वसुधा तुझमें समाए सब स्वरूप चंचल तन है और मन निर्मल व्यवहार भी कुशल और वाणी कोमल सदैव समर्पिता तू... Read more