.
Skip to content

बेटी तुझे बचाऊँगा मैं

shyam sundar

shyam sundar

कविता

January 12, 2017

दृढ़ निश्चय कर लिया है,
भेदभावी दीवार गिरा के,
दुनिया तुझे दिखाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

कलम की धार से ,
काट…झड़े रूढ़ियों की,
जुल्मी से लड़ जाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

कभी माँ,कभी बहू
तो कभी,
गीत बेटी के गाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

दे प्रहार शब्द बाणों का,
अपराधी को…
दोष ज्ञान कराऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

चिटठा ले शब्दों का,
निकल गया हूँ देश में,
हर घर पहुँच जाउँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं।

बिन बेटी….
बंजर सी हो रही धरा पर,
फिर से काली खिलाऊँगा मैं
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं।

जन्म के बाद भी,
डर नहीं होगा तुझे,
हक़ बराबरी का,दिलाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं।

पढ़ शब्द श्याम के…
अबला से सबला हो जायेगी तू,
रचना ऐसी लिख जाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं।

तू अकेली लड़ जायेगी,
गुंडा, चोर, लफंगों से,
शक्तिरूपा बनाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

तू धरती लोक की परी
देख तुझे तरसेगा बेटा..
कि जन्म बेटी का पाउँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।
……✍ श्यामसुन्दर
मुण्डवा (नागौर),राजस्थान

Author
shyam sundar
मैं श्यामसुन्दर मुंडवा जो की राजस्थान के नागौर जिले के मुंडवा शहर से हूँ । मैं ग़ज़ल/कविता/मुक्तक और अन्य विधाओं पर भी लिखता हूँ। मैंने 2015 में बी.एस सी. गणित से किया है और अब कॉम्पिटीशन की तैयारी और ज्यादा... Read more
Recommended Posts
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more
मेरे अंश
मेरे अंश तुझे मैं सुख दूंगी मैं शक्ति बन तुझको बल दूंगी स्वार्थियों से भरे इस समाज मे मैं तुझको निःस्वार्थ जीवन दूँगी फर्क नही... Read more
पुकार- एक बेटी की
माँ...माँ...माँ .. कौन...? माँ...मैं हूँ तुम्हारे अंदर पल रहा... तुम्हारा ही अंकुर... जिसे तुमने....हाँ तुमने... कितनी ही रातें...कितने ही दिन.. अपने अरमानों सा... पाला है...... Read more
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरे हर सुख दुःख की हमजोली है, —मेरी बेटी मेरी सबसे अच्छी सहेली है, —मेरी बेटी अपनी मीठी बातों से बहलाती है, —मेरी बेटी मेरे... Read more