.
Skip to content

बेटी के भाग्य में प्रभु कांटे ही भर गया.

शालिनी कौशिक

शालिनी कौशिक

कविता

January 27, 2017

पैदा हुई है बेटी खबर माँ-बाप ने सुनी ,
खुशियों का बवंडर पल भर में थम गया .

चाहत थी बेटा आकर इस वंश को बढ़ाये ,
रखवाई का ही काम उल्टा सिर पे पड़ गया .

बेटा जने जो माता ये है पिता का पौरुष ,
बेटी जनम का पत्थर माँ के सिर पे बंध गया .

गर्मी चढ़ी थी आकर घर में सभी सिरों पर ,
बेडा गर्क ही जैसे उनके कुल का हो गया .

गर्दिश के दिन थे आये ऐसे उमड़-घुमड़ कर ,
बेटी का गर्द माँ को गर्दाबाद कर गया .

बैठी है मायके में ले बेटी को है रोती,
झेला जो माँ ने मुझको भी वो सहना पड़ गया .

न मायका है अपना ससुराल भी न अपनी ,
बेटी के भाग्य में प्रभु कांटे ही भर गया .

न करता कदर कोई ,न इच्छा है किसी की ,
बेटी का आना माँ को ही लो महंगा पड़ गया .

सदियाँ गुजर गयी हैं ज़माना बदल गया ,
बेटी का सुख रुढियों की बलि चढ़ गया .

सच्चाई ये जहाँ की देखे है ”शालिनी ”
बेटी न जन्म ले यहाँ कहना ही पड़ गया .
शालिनी कौशिक
[कौशल]

शब्दार्थ-गर्दाबाद-उजाड़ ,विनाश

Author
शालिनी कौशिक
पेशे से अधिवक्ता, जागरण-जंक्शन, अमर उजाला, जनवाणी में नियमित रूप से रचनाओं का प्रकाशन, कौशल, कानूनी - ज्ञान आदि कई ब्लॉग्स पर नियमित रूप से रचनाओं का प्रकाशन.
Recommended Posts
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
**बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ** पढ़ेगी बेटी आगे बढ़ेगी बेटी । बेटों से भी बढ़कर चमकेगी बेटी । जग में नाम रोशन करेगी बेटी । हर... Read more
!!बेटा और बेटी - एक समान !!
बेटा वारस है, तो बेटी पारस है. बेटा वंश है, तो बेटी अंश है. बेटा आन है, तो बेटी शान है. बेटा तन है, तो... Read more
बेटी है नभ में जब तक
बेटी तुम्हारे आँचल में जहां की खुशियां भर देती है तुम्हारी चार दीवारों को मुकम्मल घर कर देती है ॥ बेटी धरा पर खुदा की... Read more
((((((( बेटी ))))))) --------------------------------- जब शाम को घर को आऊ, वो दौड़ी-दौड़ी आए.... लाकर पानी पिलाए, बेटी...हॉ बेटी...., फिर सिर को मेरे दबाए, दिन भर... Read more