.
Skip to content

बेटी की व्यथा

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

January 28, 2017

“बेटी की व्यथा ”
“””””””””””””””””””””

माँ !
तेरी इन बाहों में…….
तेरी स्नेहिल निगाहों में ,
तेरे आँचल की पनाहों में ,
एक बार तो ! ले ले तू मुझको !
मत मार मुझे , यूँ कोंख में !
मैं तेरी ही परछाई हूँ …..
पोषित होता है !
भैया जहाँ ,
मैं उसी कोंख से आई हूँ |
क्यों मुझको ?
तू पत्थर समझे !
और भैया को तारणहार !
मुझे देखकर
तू कतराती !
भाई को देती स्नेह अपार ||
मैं भी नारी !
तू भी नारी !
फिर मुझसे , क्यों भेदभाव ?
एकबार तू दिल से अपना ले ,
मैं दूर करूँ तेरे अभाव ||
व्यथित मन है !
दिल व्याकुल है !
और मंदित मेरी धड़कन !
“दीप” के जैसी !
प्रज्वलित ज्योति ,
कुछ शेष बची मेरे मन में !
शायद मेरी बात समझकर ,
तू मुझे बसाए , तन-मन में ||

“”””””””””””””””””””””””””””””””””
(डॉ०प्रदीप कुमार “दीप”)
“”””””””””””””””””””””””””””””””””

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
तेरी बेरुखी
तेरी बेरुखी _________ ""तू अपने ग़म से आज़िज है मैं तेरे ग़म से अफ़शुर्दा तू है मशग़ूल औरों में मैं तुझ बिन अश्क़ में गुम... Read more
तुम और मैं
???? तू शिव है, तेरी शक्ति हूँ मैं। तेरी जीवन की, हर एक भक्ति हूँ मैं। ? तेरे अंग में समायी, तेरी अर्धांगिनी हूँ मैं।... Read more
***नारी है ***कमजोर नहीं तू ***
***अबला जीवन तेरी यही कहानी*** *******आँचल में है दूध****** ***********और*********** *******आंखों में है पानी****** (((इस कथन को हमें झुठलाना है))) *****नारी तू कमजोर नहीं है*****... Read more
तेरी यादें
तेरी याद में कुछ इस कदर मैं खो जाता हूँ, कभी कभी तो मैं रोते रोते सो जाता हूँ। तू मिले ना मिले नहीं परवाह... Read more