Jul 11, 2017 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

बेटी – मुक्तक

????

बेटी किस कसूर, किस अपराध की सजा पाती है।
कभी गर्भ, कभी दहेज के नाम मारी जाती है।
घर-बाहर कहीं भी सुरक्षित नहीं है बेटियाँ –
दुष्ट-दरिंदों-गिद्ध की निगाहें यहां रुलाती है।
????—लक्ष्मी सिंह ?☺

1 Like · 1 Comment · 162 Views
Copy link to share
लक्ष्मी सिंह
827 Posts · 275.5k Views
Follow 53 Followers
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is... View full profile
You may also like: