.
Skip to content

बेटी का खत

सत्य प्रकाश

सत्य प्रकाश

कविता

January 26, 2017

मैं तेरे आंगन की तुलसी मेरी आँखें बरस रही
प्यार के मीठे बोलो को मैं तो कब से तरस रही
मां की गोद मिली न मुझको न बाबुल का प्यार मिला
दादी ने खिलाया न ही बेटे सा सत्कार मिला
कहा गई वो थाली जो भैया के वक्त बजाई थी
मेरे होने पर मातम भैया पर गाई बधाई थी
लड़की हो कर जन्म लिया क्या इसमें दोष विधाता का
पाप नहीं हूँ शाप नहीं हूँ कलंक नहीं मैं माता का
धन दौलत ना हार चाहिए बस ये ही उपहार मांगती
मां की गोद में मीठी थपकी और बाबुल का प्यार मांगती
राखी के धागों में लिपटा थोड़ा सा दुलार चाहिये
नन्ही कोपल को खिलने का जीने का अधिकार चाहिए
हस्ती मेरी कुछ नहीं माना एक बेटे के सामने
लेकिन लडकी ही तो आएगी वंश तुम्हारा थामने
हमे कोख में मारने वालों तुम बहु कहां से लाओगे
पेड़ की जड़ काट रहे तुम फल कहा से पाओगे
जीवन की मुस्कान बेटियाँ ईश्वर का वरदान बेटियाँ
पराई नहीं अपनी सी बेटों सी संतान बेटियाँ
बोझ नहीं गम नहीं बेटी बेटे से कम नहीं
बेटी को बचाना है बेटी को पढ़ाना है यही संदेश फैलाना है

Author
सत्य प्रकाश
अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है साहित्य l समाज के साथ साथ मन का भी दर्पण है l अपने विचार व्यक्त करने का प्रयास है l
Recommended Posts
बेटी का खत
मैं तेरे आंगन की तुलसी मेरी आँखें बरस रही प्यार के मीठे बोलो को मैं तो कब से तरस रही मां की गोद मिली न... Read more
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more
मुक्तक
तेरे हुस्न का मैं अफसाना लिए रहता हूँ! तेरे प्यार का मैं नजराना लिए रहता हूँ! मैं रोक नहीं पाता हूँ यादों का कारवाँ, तेरे... Read more
अपनी क़सम न दो मुझे लाचार मैं भी हूँ
अपनी क़सम न दो मुझे लाचार मैं भी हूँ मजबूरियों के हाथ गिरफ्तार मैं भी हूँ मैं देख ये रहा हूँ कहाँ तक हैं किमतें... Read more