.
Skip to content

बेटी का अरमान

Girija Arora

Girija Arora

कविता

January 16, 2017

मिला मुझे एक कोरा कागज़
मैं उसपर अरमान लिखूंगी
कलम प्यार में डुबा डुबाकर
उस पर सारा संसार लिखूंगी

गीत लिखूंगी अनुभव का मैं
शब्दों का व्यवहार लिखूंगी
स्वप्न रचूंगी वैभव का मैं
उसपर अपना अधिकार लिखूंगी
मिला मुझे एक कोरा कागज़
मैं उसपर उत्थान लिखूंगी

जड़ लिखूंगी मिट्टी में मैं
ऊँची ऊपर उड़ान लिखूंगी
जहाँ हवा बहे अनुकूलतम
ऐसा आसमान लिखूंगी
मिला मुझे एक कोरा कागज़
मैं उसपर परवान लिखूंगी

आंगन में त्योहार लिखूंगी
चेहरों पर मुस्कान लिखूंगी
हर कोने में प्राण भरूंगी
और अपनी पहचान लिखूंगी
मिला मुझे एक कोरा कागज़
मैं उसपर सम्मान लिखूंगी

Author
Girija Arora
Recommended Posts
पुरस्कार
कविता पुरस्कार - बीजेन्द्र जैमिनी जब से मुझे मिला है पुरस्कार कोई मेरे पाँव छूँता है कोई मुझे आर्शीवाद देता है देखते ही देखते मैं... Read more
मम्मी मेरी सबसे प्यारी
मम्मी मेरी सबसे प्यारी, सबसे न्यारी मेरी मम्मी। लगती है प्यारों में प्यारी मम्मी में जहाँ बसा है, और मैं मम्मी में। मम्मी है तो... Read more
ग़ज़ल:- मैं बहुत साद हूं
. ** ग़ज़ल ** 5.2.17 *** 11.45 ************** मैं बहुत साद हूं तेरी बेखुदी से तूं है मेरी उम्मीदो का राज़ **** मैं बहुत साद... Read more
मुक्तक
आरजू तेरी बुला रही है मुझे! याद भी तुमसे मिला रही है मुझे! किसतरह मैं रोकूँ दिल की तड़प को? आग चाहत की जला रही... Read more