बेटी आई घर-आँगन महकाई

बेटी आई घर-आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

सागर की मोती जैसी
दीया की बाती जैसी
जगमगाती ज्योति आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

पिता की दुलारी है
माँ की प्यारी है
सबकी राजदुलारी आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

कुल दीपक कुल की शान है
दोनों कुल की रखती मान है
मरूभूमि में फूल खिलाती आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

सागर सी गहराई है
इरादा भी फौलादी है
छूने आसमान आई
बेटी आई घर- आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

चाँद तारे मुट्ठी में लाई
सूरज सा चमक लाई
रचने नया इतिहास आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

युगों युगों की कहानी है
प्रीत इसकी पुरानी है
सबकी आँखों में पानी लाई
बेटी आई घर-आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई

माँ भारती की बेटी है
राष्ट्र की नव-निर्मात्री है
अमिट छाप छोड़ने आई
बेटी आई घर -आँगन महकाई
खिलखिलाती धूप सी आई ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 249

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share