बेटियों को प्यार दो

बेटियों को प्यार दो (गीतिका)
****************
*
बेटियों को प्यार दो,
जिन्दगी संवार दो।
*
पुष्प बन ये खिल उठे,
इस तरह श्रृंगार दो।
*
हैं अशक्त अभी तनिक,
शक्ति का आधार दो।
*
खिलखिलाते स्वप्न को,
रूप तुम साकार दो।
*
सह चुकी हैं पतझड़ें,
फागुनी उपहार दो।
*
जिन्दगी का कीमती,
आज ही अधिकार दो।
*
यह धरा भी गा उठे,
वो अमिट संस्कार दो।
***************
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "बेटियाँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 2

Like Comment 0
Views 21

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share