Skip to content

बेटियों का महत्व

Pritam Rathaur

Pritam Rathaur

मुक्तक

April 20, 2017

मेहंदी रोली कंगन का सिँगार नही होता”’

रक्षा बँधन भईया दूज का त्योहार नहीं होता””

रह जाते है वो घर सूने आँगन बन कर””

जिस घर मे बेटियों का अवतार नहीं होता”’

प्रीतम राठौर
श्रावस्ती (उ०प्र०)

Author
Pritam Rathaur
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है... Read more
Recommended Posts
नमन बेटियों
★★★ तुम सजाओ धरा ये गगन बेटियों। आज जीवन बनाओ चमन बेटियों।। ★★★ नाज इतना करें आज आवाम भी। सब करें जोड़कर कर-नमन बेटियों।। ★★★... Read more
बेटिया ईश्वर का अवतार है
Dc Thakur कविता Jan 15, 2017
कविता बेटियां ईशवर का अवतार है बेटियों से ही तो घर आँगन में खुशियों से भरा परिवार है । बेटियों से ही तो इस जहाँ... Read more
मर जाने दो बेटियों को...
मर जाने दो बेटियों को... लिंग परिक्षण कर भेदभाव जताया मारने को उसे औज़ारों से कटवाया इतनी घ्रणा है उसके अस्तिव से तो मर जाने... Read more
****बेटियाँ***
04.01.17 **बेटियाँ** सांय 6.48 *************** बेटियाँ बाबुल के बगीचे की शान होती हैं बेटियाँ ...बाबुल की बुलबुल .. .और ******** माँ ..के दिल का अरमान... Read more