.
Skip to content

बेटियां

पृथ्वीराज चौहान

पृथ्वीराज चौहान

कविता

January 11, 2017

घर स्वर्ग हो जाता है
जब घर में आती है बेटियां
कण कण सुवासित होता
जब घर में वास कर जाती है बेटियां
रौनक आती खुशहाली आती
जब घर में किलकारती है बेटियां
माँ का हृदय गदगद् होता
मन भाव-विभोर हो जाता है
जब माँ माँ पुकारती है बेटियां
माँ को बड़ा सुकुन है मिलता
जब नन्हे कंधों पर-
बड़ा भार उठाती है बेटियां
पापा की दिनभर की थकान मिट जाती
जब सीने से लग जाती है बेटियां
सर्वजन को प्रेम से जोड़े रखती
घर में चार चांद लगाती है बेटियां
शिक्षा में भी अव्वल रहती
अपनों का मान बढ़ाती है बेटियां
घर हो या कॉलेज हो
फर्ज बखूबी निभाती है बेटियां
मां बाप का कर्ज चुकाने को
बेटा भी बन जाती है बेटियां
इस घर से जब उस घर जाती
अपनी चातुर्य-कौशल से
दो परिवारों को महकाती है बेटियां
संस्कृति और सभ्यता की
खुद पर्याय बन जाती है बेटियां
ऐसी है मेरे देश की बेटियां
ऐसी है मेरे वतन की बेटियां
कवि- पृथ्वीराज चौहान

Author
पृथ्वीराज चौहान
पृथ्वीराज चौहान शिक्षा- B.Ed. M.A. ( हिन्दी साहित्य, राजस्थानी) राजस्थानी नेट व्यवसाय- अध्यापक प्रकाशित पुस्तक- राजस्थान री बातां न्यारी (बाल साहित्य राजस्थानीराजस्थानी भाषा में) पता- ग्रामपोस्ट- जानकीदासवाला त. सूरतगढ जिला- श्री गंगानगर (राज.) सम्पर्क- 8003031152
Recommended Posts
बेटीयाँ
क्या सच में होती हैं घर का श्रृंगार बेटियां, फिर समाज में क्यों दिखती आज भी लाचार हैं बेटियां माना कि पापा की लाडली ,माँ... Read more
बेटियां
हर जगह अपना नाम कमा रही हैं बेटियां। घर की ज़िम्मेदारी उठा रही हैं बेटियां। ब्याह के जब यह मायके को छोड़ जाती हैं; ससुराल... Read more
कविता
बेटियां खुशी का पर्याय होती है बेटियां जीवन का अहसास होती है बेटियां खिलौनो में टूटती, समाज से लड़ती, घर का श्रंगार होती है बेटियां..... Read more
बेटियां
पिता के जीवन का स्वाभिमान होती है, बेटियां, सब घर वालो की जान होती है, बेटियां। परमात्मा के आशिष के रूप मे, लक्ष्मी का अवतार... Read more