.
Skip to content

बेटियां

जगदीश लववंशी

जगदीश लववंशी "जेपीएल"

कविता

January 11, 2017

मंदिर मस्जिद टेका माथा,
कर मिन्नतें सबको साधा,
तब…..
एक छोटी सी नन्ही कली,
मेरे घर आँगन में खिली,
लाई संग खुशियां हजार,
जीवन में आयी नई बहार,
वो हैं मन की भोली,
मीठी हैं उसकी बोली,
रहती बनकर सुख की छाया,
बेटी नहीं तो कुछ नहीं पाया,
बेटी हैं धरा का आधार,
करती हैं सपने साकार,
फिर क्यों……………..
सुत की चाहत में सुता को मारते,
सुत सुता में इतना अंतर पालते,
जग को निहारने से पहले ही रौंदते,
एक नन्ही कली को खिलने से रोकते,

Author
जगदीश लववंशी
J P LOVEWANSHI, MA(HISTORY) ,MA (HINDI) & MSC (MATHS) "कविता लिखना और लिखते लिखते उसी में खो जाना , शाम ,सुबह और निशा , चाँद , सूरज और तारे सभी को कविता में ही खोजना तब मन में असीम शांति... Read more
Recommended Posts
बेटियां
मंदिर मस्जिद टेका माथा, कर मिन्नतें सबको साधा, तब..... एक छोटी सी नन्ही कली, मेरे घर आँगन में खिली, लाई संग खुशियां हजार, जीवन में... Read more
''बेटी पर दुमदार दोहे''
.. ** बेटी पर दुमदार दोहे ** बेटी बेटी माँ ननद भावज सास पतोह आजी नानी भानजी बहन सुता सम्मोह रिश्तों की है श्रृंखला. बेटी... Read more
बेटी जो हँस दे तो कुदरत हँसती है।
*बेटिया* सामाजिक बगिया में, गुल सम रहती है। बेटी जो हँस दे तो, कुदरत हँसती है। चिंताऐं हर रोज जकड़ लेती मन को। पल में... Read more
बेटी का है सम्मान
कविता बेटी का है सम्मान - बीजेन्द्र जैमिनी बेटी पढा़ओ- शिक्षा है वरदान मानव जाति का है कल्याण बेटी का है सम्मान बेटी बचाओ -... Read more