.
Skip to content

बेटियां

आकाश अरोरा

आकाश अरोरा

कविता

January 29, 2017

कहते हैं, खानदान का ताज होती हैं बेटियां।
फिर क्यूँ अपनों के ही प्यार को मोहताज होती है बेटियां।

नहीं देते हम उन्हें हक़ थोडा सा भी जीने के लिए।
खुली किताब होकर भी राज होती हैं बेटियां।
पर वो कहते हैं ना खानदान का ताज होती हैं बेटियां।।

आँखों में उनके आँसू भर दिए हैं हमने।
सोचते हैं चुप रहेंगी क्योंकि घर की लाज होती हैं बेटियां।
बस झूठ कहते हैं खानदान का ताज होती हैं बेटियां।।

सांस भी नहीं लेने देते उन्हें मार देते हैं गर्भ में।
वो जिनके लिए बेटे रेशमी वस्त्र और दाद में खाज होती हैं बेटियां।
हम बस कहते हैं खानदान का ताज होती हैं बेटियां।।

सदियों से उन्हें जीने ना दिया अब तो उन्हें उड़ने दो।
होंगे बेटे कल के साथी गर जीवन में आज होती हैं बेटियां।
तभी कह पाओगे खानदान का ताज होती हैं बेटियां।
खानदान का ताज होती हैं बेटियां।।

Author
Recommended Posts
बेटियां  भ्रूण है
बेटियां भ्रूण हैं ********** बेटियां भ्रूण हैं चौखट हैं पर्दा हैं ख़ानदान हैं इज्जत हैं दहेज हैं और अल्ट्रासाउंड में दिखने वाला धब्बा. फिर आकाश... Read more
बेटियां
कहते है दो कुलों को जोड़ती है बेटियां मुश्किलो को अक्सर तोड़ती है बेटियां। त्याग और समर्पण की मूर्ति होती है बेटियां मायका और ससुराल... Read more
बेटियां
सृष्टि में मानव जीवन का आधार बेटियां हैं। मां बेटी बहन रूप में रब का उपहार बेटियां हैं। मां बाप अतिथियों का करती सत्कार बेटियां... Read more
बेटीयाँ
क्या सच में होती हैं घर का श्रृंगार बेटियां, फिर समाज में क्यों दिखती आज भी लाचार हैं बेटियां माना कि पापा की लाडली ,माँ... Read more