बेटियां

कहते है दो कुलों को
जोड़ती है बेटियां
मुश्किलो को अक्सर
तोड़ती है बेटियां।

त्याग और समर्पण की
मूर्ति होती है बेटियां
मायका और ससुराल को
प्रेम से सींचती है बेटियां।

फिर बेटी से बहु के सफर में
क्यों भेदभाव सहती है बेटियां
ख्वाबों को अपने क्यों
आंखियों के नीर से धोती है बेटियां।
———-
#स्वरचित मौलिक
शालिनीपंकज दुबे

Voting for this competition is over.
Votes received: 40
346 Views
नाम-शालिनीपंकज दुबे शिक्षा-एमएससी-प्राणिशास्त्र,ऍम ए-समाजशास्त्र,डीएड व्यवसाय-शिक्षिका पढ़ना तो आज भी बहुत पसंद ,आर्टिकल लिखना स्कूल के...
You may also like: