Jan 17, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

बेटियां

कहते है दो कुलों को
जोड़ती है बेटियां
मुश्किलो को अक्सर
तोड़ती है बेटियां।

त्याग और समर्पण की
मूर्ति होती है बेटियां
मायका और ससुराल को
प्रेम से सींचती है बेटियां।

फिर बेटी से बहु के सफर में
क्यों भेदभाव सहती है बेटियां
ख्वाबों को अपने क्यों
आंखियों के नीर से धोती है बेटियां।
———-
#स्वरचित मौलिक
शालिनीपंकज दुबे

Votes received: 40
369 Views
Copy link to share
नाम-शालिनीपंकज दुबे शिक्षा-एमएससी-प्राणिशास्त्र,ऍम ए-समाजशास्त्र,डीएड व्यवसाय-शिक्षिका पढ़ना तो आज भी बहुत पसंद ,आर्टिकल लिखना स्कूल के... View full profile
You may also like: