.
Skip to content

बेटियां हैं तो आँगन है…

आनंद बिहारी

आनंद बिहारी

कविता

January 10, 2017

बेटियां हैं तो ये आँगन है, बेटियां हैं तो घर है
बेटियां जग में ना हों, तो कौन नहीं बेघर है।1।

मेरी बेटी, तेरी बेटी, सबकी बेटियां इक जैसी
बेटियों के बिना सूना,… ये संसार – शहर है।2।

बेटियां झड़ने की झड़-2, वीणा के मधु स्वर हैं
बेटियों से सरस जीवन, जीवन अजर-अमर है।3।

बेटियों के पौध को सींचो प्यार-दुलार के जल से
शिक्षा दो-क़ाबिल बनें, चाहत उनके अंदर है।4।

जिनके जीवन में बेटी-बहन, ना कोई नारी है
उनका जीवन मधुमास में उजड़ है, पतझड़ है।5।

©आनंद बिहारी, चंडीगढ़

Author
आनंद बिहारी
गीत-ग़ज़लकार by Passion नाम: आनंद कुमार तिवारी सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान जन्म: 10 जुलाई 1976 को सारण (अब सिवान), बिहार में शिक्षा: B A (Hons), CAIIB (Financial Advising) लेखन विधा: गीत-गज़लें, Creative Writing etc प्रकाशन: रचनाएँ... Read more
Recommended Posts
बेटियां
सृष्टि में मानव जीवन का आधार बेटियां हैं। मां बेटी बहन रूप में रब का उपहार बेटियां हैं। मां बाप अतिथियों का करती सत्कार बेटियां... Read more
बेटियां
पिता के जीवन का स्वाभिमान होती है, बेटियां, सब घर वालो की जान होती है, बेटियां। परमात्मा के आशिष के रूप मे, लक्ष्मी का अवतार... Read more
बेटियां ?
जीवन को जीवन बनाती बेटियां बेटो का जीवन सजाती है बेटियां इस सृष्टि को सतत बनाती बेटियां फिर क्यों कोख में मारी जाती बेटियां घर... Read more
बेटियों से ही जहाँ
बेटियों से ही तो सारा जहान है बेटियां ही घर आँगन की शान हैं बेटियां न होती होते कहाँ नादानो ये जमीं वो आसमां सारा... Read more