" बेटियां ".............

” बेटियाँ “
————
ये पूछो मत मुझसे क्या होती है बेटी
न शब्द न परिभाषा में बंधती है बेटी।
*
चिड़िया नहीं, ममता से भरी मानव है
हँसते हुए बहुत कुछ सहती है बेटी ।
*
सबको अपना समझती,कहाये ‘परायी’
परिवार से बहुत लगाव रखती है बेटी ।
*
खुद दु:ख सहकर भी खुशी देती है
अपने दर्द बयां कम करती है बेटी ।
*
दूर रहकर भी दिल में रखती सबको
स्नेह भरा दिल,पर भावुक होती है बेटी।
*
भावुक कर देती , जाती जब ससुराल
दो कुल को आपस में जोड़ती है बेटी ।
*
दर्जा बराबरी का दंभ भरता समाज पर
घर में भी इससे वंचित रहती है बेटी।
*
कटु सत्य,आज भी कम खुशी होती
‘मन में’ घर में जब जन्म लेती है बेटी।
*
” काश, बेटी न होकर होती मैं भी बेटा “
इसी विडंबना से घायल सोचती है बेटी ।
*
शब्द कम हैं, कहूं ‘बेटियों’ के बारे में
साहस अदम्य फिर भी सहमती है बेटी।
*
गर सुविधा मिले आगे बढ़ने की “पूनम”
तो हर क्षेत्र में आगे बढ़ सकती है बेटी
स्वरचित:-पूनम झा।कोटा,राजस्थान
###################

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "बेटियाँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 30

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 1 Comment 0
Views 696

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share