.
Skip to content

” बेटियां “………….

पूनम झा

पूनम झा

कविता

January 10, 2017

” बेटियाँ ”
————
ये पूछो मत मुझसे क्या होती है बेटी
न शब्द न परिभाषा में बंधती है बेटी।
*
चिड़िया नहीं, ममता से भरी मानव है
हँसते हुए बहुत कुछ सहती है बेटी ।
*
सबको अपना समझती,कहाये ‘परायी’
परिवार से बहुत लगाव रखती है बेटी ।
*
खुद दु:ख सहकर भी खुशी देती है
अपने दर्द बयां कम करती है बेटी ।
*
दूर रहकर भी दिल में रखती सबको
स्नेह भरा दिल,पर भावुक होती है बेटी।
*
भावुक कर देती , जाती जब ससुराल
दो कुल को आपस में जोड़ती है बेटी ।
*
दर्जा बराबरी का दंभ भरता समाज पर
घर में भी इससे वंचित रहती है बेटी।
*
कटु सत्य,आज भी कम खुशी होती
‘मन में’ घर में जब जन्म लेती है बेटी।
*
” काश, बेटी न होकर होती मैं भी बेटा ”
इसी विडंबना से घायल सोचती है बेटी ।
*
शब्द कम हैं, कहूं ‘बेटियों’ के बारे में
साहस अदम्य फिर भी सहमती है बेटी।
*
गर सुविधा मिले आगे बढ़ने की “पूनम”
तो हर क्षेत्र में आगे बढ़ सकती है बेटी
स्वरचित:-पूनम झा।कोटा,राजस्थान
###################

Author
पूनम झा
मैं पूनम झा कोटा,राजस्थान (जन्मस्थान: मधुबनी,बिहार) से । सामने दिखती हुई सच्चाई के प्रति मेरे मन में जो भाव आते हैं उसे शब्दों में पिरोती हूँ और यही शब्दों की माला रचना के कई रूपों में उभर कर आती है।... Read more
Recommended Posts
बेटी
♡♤ बेटी ♤♡ माँ के हाथों का साथ है बेटी, नई मुस्कान की सौगात है बेटी, बेटी का प्रेम आँखों में बसता, परिवार के आँखों... Read more
आज भी बेटी कल भी बेटी
*हलचल बेटी* एक सवाल एक हल भी बेटी,, आज भी बेटी कल भी बेटी,, खामोशी इन लवो की बेटी,, और दिल की हलचल बेटी,, आसानी... Read more
वो भी कभी बेटी होती है
खुशियाँ नहीँ मनाई जाती , क्यों बेटी जब जन्म है लेती । हर घर को खुशियोंकाखजाना ,जबकि अधिकतर बेटी देती ॥ ज्यों ज्यों बेटी बढ़ती... Read more
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Neelam Ji कविता Feb 23, 2017
**बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ** पढ़ेगी बेटी आगे बढ़ेगी बेटी । बेटों से भी बढ़कर चमकेगी बेटी । जग में नाम रोशन करेगी बेटी । हर... Read more