बेटियाँ

बेटियाँ कच्चे बाँस की तरह,
पनपती आधार हैं।
बेटियाँ ही अनवरत,
प्रकृति की सृजनहार हैं।

किसी भी संदेह में ना,
उन्हें मारा जाय।
उनको भी स्नेह की,
छाँव में दुलारा जाय।

इनसे ही श्रृगार धरा का,
इनसे ही भूमि पावन।
जगत जननी अयुज बेटियाँ,
इन्हें करें सौ बार नमन।

समानता को संकल्प बना,
आगे इनको बढ़ाया जाय।
भूल रूढ़ियाँ सभी चलो,
हर बेटी को पढ़ाया जाय।

Voting for this competition is over.
Votes received: 22
1 Like · 159 Views
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता Books: अनकहे पहलू(काव्य संग्रह) अंजुमन(साझा संग्रह) मुसाफिर(साझा संग्रह) साहित्य उदय(साझा संग्रह) काव्य अंकुर(साझा...
You may also like: