.
Skip to content

* बेटियाँ *

mahesh jain jyoti

mahesh jain jyoti

कविता

July 16, 2017

बेटियाँ तो हैं कली सी डाल से इनको न तोड़ ।
हैं बहुत नाजुक सभी ये भावनायें मत मरोड़ ।।
सृष्टि की आधार हैं ये वासना को दे बिसार ।
मात्र पाना चाहती हैं ये सभी का बस दुलार ।।1

दो कुलों की शान हैं ये बाप- माँ की हैं गुमान ।
ये निभातीं बात अपनी तोड़ती ये हैं न आन ।।
हैं सभी लक्ष्मी स्वरूपा राधिका सीता समान ।
अंश हैं ये मात की रे हैं धरा सी धैर्यवान ।।2

फागुनी सी ये बहारें श्रावणी सी हैं फुहार ।
वासना के तीर पर करते चुनरिया तार-तार ।।
देख कर के आह निकले पर सभी हैं आज मौन ।
मान इनका जो बढ़ाये है बताओ कृष्ण कौन ?

-महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
(सभी रचनाएँ शुद्ध गीता छंद में )
***

Author
mahesh jain jyoti
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ जो सत्य की खोज में चला जा रहा है अपने लक्ष्य की ओर , गीत गाते हुए, कविता कहते और छंद की उपासना करते हुए... Read more
Recommended Posts
हमारी बेटियाँ
माँ का आईना होती है बेटियाँ संस्कृति संस्कारों को संजोती हैं बेटियाँ कोमल भावनामय होती हैं बेटियाँ रीति रिवाजों को सहेजतीं हैं बेटियाँ कहीं बोयीं... Read more
सादर नमस्कार, साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता बेटियाँ में मेरी प्रतिभागिता स्वीकार करें, सादर बेटियाँ” हर घरों की जान सी होती हैं बेटियाँ कुल की कूलिनता पर... Read more
बेटियाँ
??? घर आँगन की शोभा.... हैं ये हमारी बेटियाँ इनकी हँसी से खिल उठता है, हमारे घर का कोना - कोना। ?लक्ष्मी सिंह ???? बेटियाँ... Read more
बेटियाँ
बहुत प्यारी लगती है बेटियाँ बहुत दुलारी लगती है बेटियाँ बेटियाँ लागे सारा संसार हमे बहुत न्यारी लगती है बेटियाँ अपनी होती परछाई है बेटियाँ... Read more