.
Skip to content

** बेटियाँ **

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

July 15, 2017

जिस घर खुशी से खिलखिलाती हैं बेटियाँ ।
ब्रह्मा विष्णु महेश संग बसती तीनों देवियाँ ।।

हर संकट हर लेती ऐसी दैवी शक्ति हैं बेटियाँ ।
देवी सा रूप ही नहीं देवी का अंश हैं बेटियाँ ।।

उस घर बरकत आती जहाँ मुस्कुराती बेटियाँ ।
साक्षात् अन्नपूर्णा का रूप धर लेती हैं बेटियाँ ।।

वो घर मन्दिर बन जाता जहाँ खुश रहती बेटियाँ ।
हर वास्तु दोष दूर हो जाता जब हँसती हैं बेटियाँ ।।

जड़ से उखड़कर भी बस जाती हैं बेटियाँ ।।
खुद दर्द सहकर भी सबको हँसाती हैं बेटियाँ ।।

बिन खाद पानी के लहलहाए वो पौधा हैं बेटियाँ ।
थोड़ी सी सम्भाल में खिल जाए वो फूल हैं बेटियाँ ।

माँ बहन बहु हर रूप में ढल जाती हैं बेटियाँ ।
ईश्वर का दिया अनमोल तोहफा हैं बेटियाँ ।।

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
बेटियाँ
​बड़े-बड़े काम की हैं बेटियाँ, ईश्वर के नाम की हैं बेटियाँ, घर की लक्ष्मी, घर की इज्जत हैं बेटियाँ, घर को घर बनाने वाली जन्नत... Read more
बेटियाँ
​बड़े-बड़े काम की हैं बेटियाँ, ईश्वर के नाम की हैं बेटियाँ, घर की लक्ष्मी, घर की इज्जत हैं बेटियाँ, घर को घर बनाने वाली जन्नत... Read more
बेटियाँ
बेटा यदि घर-बार है,तो संसार बेटियाँ। मानव जनम में ईश का अवतार बेटियाँ। माता-पिता के प्यार का है सार बेटियाँ। वसुधा पे सीधा मोक्ष का... Read more
बेटियाँ
बेटियाँ कोमल फूल की कली सी होती हैं बेटियाँ । माँ बाप के लाड़ में पली होती हैं बेटियाँ ।। खुशी का पिटारा होतीं हैं... Read more