.
Skip to content

बेटियाँ

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

कविता

January 30, 2017

बेटा यदि घर-बार है,तो संसार बेटियाँ।
मानव जनम में ईश का अवतार बेटियाँ।
माता-पिता के प्यार का है सार बेटियाँ।
वसुधा पे सीधा मोक्ष का हैं द्वार बेटियाँ।

बेटा ‘शगुन’ तो खुशियों का त्यौहार बेटियाँ।
मानव पे हुआ ईश् का उपकार बेटियाँ।
राम-ओ-रहीम,वाहे गुरु बुद्ध समझिये।
दुनियाँ के हर एक धर्म का हैं सार बेटियाँ।

रिश्तों की प्रीत ,नेह की मनुहार बेटियाँ।
खुशियों भरा है राखी का त्यौहार बेटियाँ।
धरती गगन सा मेल इन्हें नेह दीजिए।
बेटा है गर समाज तो व्यवहार बेटियाँ।

ऋषियों का “तेज”,धर्म-सदाचार बेटियाँ।
संचित कर्म का पुण्य है,सत्कार बेटियाँ।
मानव जनम में रूप,शील,गुण की श्रेष्ठता।
कलयुग में रामराज का संस्कार बेटियाँ।

माता-पिता के स्वप्न हैं,साकार बेटियाँ।
विपदा में हरें कष्ट ही हर बार बेटियाँ।
दीनों को दीनानाथ हैं,असुरों को चण्डिका।
दुष्टों का करें क्षण में ही संहार बेटियाँ।
***************************

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
*बेटियाँ*
ईश्वर का उपहार बेटियाँ वीणा की झनकार बेटियाँ ::::::::::::::::::::::::::::::::::::::: सारी धरा सुनहरी लगती अम्बर का श्रृगांर बेटियाँ ::::::::::::::::::::::::::::::::::::::: आगे हरदम जाती बढ़ती खुशियों की बौछार... Read more
****बेटियाँ***
04.01.17 **बेटियाँ** सांय 6.48 *************** बेटियाँ बाबुल के बगीचे की शान होती हैं बेटियाँ ...बाबुल की बुलबुल .. .और ******** माँ ..के दिल का अरमान... Read more
****   बेटियाँ  *****
बेटियाँ बाबुल के बगीचे की शान होती हैं बेटियाँ …बाबुल की बुलबुल .. .और माँ ..के दिल का अरमान होती है उसकी …चहचहाट घर-आंगन खेत-... Read more
*बेटियाँ*
आसमां छू रही आज हैं बेटियाँ ! इक महकता हुआ राज़ है बेटियाँ !! देश के मान को जग में ऊँचा किया ! कम किसी... Read more