.
Skip to content

बेटियाँ

urmila shukl

urmila shukl

कविता

January 28, 2017

बेटियाँ

********

जिस घर में

जन्म लेती हैं बेटियाँ

वो घर गमक उठता है

उनके सुवास से

रजनी गंधा ,मौलश्री

मधुमालती ,मोंगरा से भी

गहरी होती है

उनके प्रेम की सुवास।

रंगोली और अल्पनाओं से

सजाकर घर

बेरंग जीवन में वे

भर देती हैं

रँग जीवन के।

बुलबुल सी चहकती बेटियाँ

सूने घर को बना देती हैं

उपवन

सच ही कहती थीं दादी

जिस आँगन में

खेलती नहीं बेटियाँ

जिस आँगन से

उठती नहीं डोली

वो अँगना भी रह जाता है

अन बियाहा और अकेला

सचमुच बेटी के साथ साथ

मां बाबा ,घर द्वार ,

ताल तलैया सब

सबके सब

बंध जाते है

इक बंधन में।

कहीं टूट न जाये

नेह डोर

इस डर से घबराकर वे

नित नई गॉंठ

लगाती हैं

***************

Author
urmila shukl
kavita sngrh- ekkisvin sadi ke dwar par, kahani sangrh- apne apne morche par, main fulmati or hijade samiksha- hindi kahani men chhttisgdhi snskriti, chhttisgrhi lok geeton men stri aakashwani, durdrdhn, part patrikaon men rachnayen prkashit
Recommended Posts
बेटियाँ
★बेटियाँ★ ------------------- चम्पाहार श्रृंगार बेटियाँ खुशबू का संसार बेटिया घर की शोभा दुबरी करती फिर भी मुख से कुछ न कहती मूक रहे हर लेती... Read more
बेटियाँ  -- निवातिया डी. के.
बेटियाँ घर आँगन की पहचान होती है बेटियाँ हर चेहरे की मुस्कान होती है बेटियाँ राम, कृष्ण भी लेकर आते है अवतार ममता का ऐसा... Read more
कविता
"बेटियाँ" अब परिचय की मोहताज नही बेटियाँ आज माँ पिता की सरताज हैं बेटियाँ । गंगा जैसी निर्मल,अग्नि सी निश्च्छल शीतल समीर की झोंका हैं... Read more
सादर नमस्कार, साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता बेटियाँ में मेरी प्रतिभागिता स्वीकार करें, सादर बेटियाँ” हर घरों की जान सी होती हैं बेटियाँ कुल की कूलिनता पर... Read more