.
Skip to content

बेटियाँ

प्रदीप तिवारी 'धवल'

प्रदीप तिवारी 'धवल'

गीत

January 28, 2017

बेटियाँ

हर कोख कौम देश का अभिमान बेटियाँ
कर रही हैं राष्ट्र का निर्मान बेटियाँ
प्रकृति प्रदत्त प्रेम की संतान बेटियाँ
प्रभू ने खुद रचा हो जो बखान बेटियाँ

पुरुषों के सारे काज सहजता से जो कर दे
बुझते चरागे लौ को जो आशाओं से भर दे
नारी स्वरुप में मिली भगवान बेटियाँ
साहित्य, शिक्षा, स्वास्थ्य का संधान बेटियाँ
तकनीक औ विज्ञान में प्रतिमान बेटियाँ

रेल, वायु, सड़क मार्ग तलवों के नीचे
प्रत्येक क्षेत्र में किया लड़कों को है पीछे
सौभाग्यशाली पाते हैं वरदान बेटियाँ
किसी भी क्षेत्र से नहीं अनजान बेटियाँ
मैके में अब नहीं रही मेहमान बेटियाँ

कोख में ही मारने वालों ज़रा सोचो
पाओगे कैसे तुम बहू इस कृत्य को रोको
कुल को बढ़ा सके जो वो सम्मान बेटियाँ
शो पीस अबला सी नहीं सामान बेटियाँ
अब बाप के लिए नहीं अपमान बेटियाँ

करुना, ममत्व, क्षमा, प्रेम, दया, धर्म, दान
विरले पुरुष ही पाते हैं ऐसे गुणों का मान
सम्पूर्ण विश्व में गुणों की खान बेटियाँ
दहेज़ की दुकान का ब्यवधान बेटियाँ
खेलों में सुनाती हैं राष्ट्र गान बेटियाँ

हर कोख कौम देश का अभिमान बेटियाँ
कर रही हैं राष्ट्र का निर्मान बेटियाँ

प्रदीप तिवारी ‘धवल’

Author
प्रदीप तिवारी 'धवल'
मैं, प्रदीप तिवारी, कविता, ग़ज़ल, कहानी, गीत लिखता हूँ. मेरी दो पुस्तकें "चल हंसा वाही देस " अनामिका प्रकाशन, इलाहाबाद और "अगनित मोती" शिवांक प्रकाशन, दरियागंज, नई दिल्ली से प्रकाशित हो चुकी हैं. अगनित मोती को आप (amazon.in) पर भी... Read more
Recommended Posts
मेरी  बेटियाँ
???? जिस में महके प्यार की कलियाँ ऐसी है मेरी बेटियाँ। ? जिस में बहे सद्भावना की नदियाँ ऐसी है मेरी बेटियाँ ? घर-आँगन में... Read more
बेटियाँ
ऑखो में काजल लगाती बेटियाँ कभी ऑसू बहाती बेटियाँ कभी दो टूक कर दे दिलों को कभी रिश्तों को रफू कराती बेटियाँ कभी ख्वाबों की... Read more
बेटियाँ
ऑखो में काजल लगाती बेटियाँ कभी ऑसू बहाती बेटियाँ कभी दो टूक कर दे दिलों को कभी रिश्तों को रफू कराती बेटियाँ कभी ख्वाबों की... Read more
बेटियाँ
ऑखो में काजल लगाती बेटियाँ कभी ऑसू बहाती बेटियाँ कभी दो टूक कर दे दिलों को कभी रिश्तों को रफू कराती बेटियाँ कभी ख्वाबों की... Read more