Skip to content

बेटियाँ

Akhilesh Chandra

Akhilesh Chandra

कविता

January 26, 2017

माँ बाप का बड़ा अरमान होती हैं बेटियाँ

हमारे घरों की अनोखी शान होती हैं बेटियाँ

हमारे गोद में डालता जब परमात्मा है इन्हें

हर घर को खुशहाल बनातीं है ये बेटियाँ

बहुत प्यारी और मासूम होती हैं ये बेटियाँ

हर दिल को रिझा माफिक बनाती है बेटियाँ

कुछ मूर्ख नासमझ ..इन्हें गर्भ में ही मारते

पैदा ही नहीं होने देते वे ये प्यारी बेटियाँ

क्या उन्हें यह भी नहीं होती मालूम

कि जन्म देकर उन्हें भी पालतीं ये बेटियाँ

है ख़ुदाई और कायनात का भी बजूद भी
इसलिये

क्योकि बराबर की संख्या में जन्म लेती हैं
बेटियाँ

उच्च शिक्षा और उच्च संस्कार यदि उन्हें
भी मिले

डॉक्टर इंजीनयर प्रोफेसर वकील बन हर
जगह नाम रोशन करती है बेटियाँ

पड़े जो वक्त कभी दुर्गा..कभी लक्ष्मी और
सरस्वती भी बन जाती हैं ये बेटियाँ

भारत का परचम सब जगह लहरातीं यह
गौरवशाली बेटियाँ

(सभी बेटियों को समर्पित ये कविता)

Author
Akhilesh Chandra
मै अखिलेश चन्द्र ,आयु ७२ साल (मूल निवासी शहर बाराबंकी उत्तर प्रदेश हूँ )वर्त्तमान में कल्याण जिला थाना महाराष्ट्र का निवासी हूँ , मुझे साहित्य विशेषतया कविता में अभिरुचि है, ,अभियांत्रिकी में स्नातक हूँ और मैं केन्द्रीय सरकार में ४१... Read more
Recommended Posts
बेटियाँ
बेटियाँ ही तो अनमोल दौलत बेटियाँ है मधुबाला, मधुकली चहक-महक रौनक है आँगन में इस जग में बेटियाँ है निराली जग की चेतना है ,कल्पना... Read more
चलती है बेटियाँ
मंजिल की राह मे,चलती है बेटियाँ | चलती है बेटियाँ, बढ़ती है बेटियाँ || दिल हजारो अरमां,संजोती है बेटियाँ | संजोती है बेटियाँ, पिरोती है... Read more
बेटियाँ
बहुत प्यारी लगती है बेटियाँ बहुत दुलारी लगती है बेटियाँ बेटियाँ लागे सारा संसार हमे बहुत न्यारी लगती है बेटियाँ अपनी होती परछाई है बेटियाँ... Read more
बेटियाँ
बहुत प्यारी लगती है बेटियाँ बहुत दुलारी लगती है बेटियाँ बेटियाँ लागे सारा संसार हमे बहुत न्यारी लगती है बेटियाँ अपनी होती परछाई है बेटियाँ... Read more