बेटियाँ

प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
बेटियाँ
———–
बेटियाँ बाती
स्वयं को वे जलातीं
उजास लातीं
महकातीं आँगन
घर खुशियाँ लातीं
नन्हीं कलियाँ
चहकतीं पंछियाँ
हँसतीं गातीं
फूल बनीं बेटियाँ
घर महका उठीं
बेटी जानतीं
अवसादों को ठेल
खुशियाँ लातीं
रुलाई को बाहर
कभी आने न देतीं
माता की छाया
पिता का अभिमान
बेटी महान
आँगन महकातीं
दो कुलों की वो शान ।
—00—
– प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
मो.नं. 7828104111

Voting for this competition is over.
Votes received: 13
133 Views
हाइकुकार : ♢ प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ♢ सम्प्रति : हिन्दी व्याख्याता 13 कृतियाँ :...
You may also like: