बेटियाँ

???
घर आँगन की शोभा….
हैं ये हमारी बेटियाँ
इनकी हँसी से खिल उठता है,
हमारे घर का कोना – कोना।
?लक्ष्मी सिंह

????
बेटियाँ होती है फूल सी….
मन नाजुक कोमल पंखुरी सी…..
—लक्ष्मी सिंह?

219 Views
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is...
You may also like: