.
Skip to content

बेटियाँ

anju nigam

anju nigam

कविता

January 21, 2017

आज मेरा आंगन महका हैं,
आज मेरा आंगन चहका हैं,
खिली हैं आज कली मेरे आंगन में,
सूरज सी आभा लिये,
लिये चाँद सी सौम्यता,
आकाश सा विस्तार लिये,
झरने सा ठहराव लिये,
लिये कलरव चिड़ियो सा,
धरती सा भार लिये,
फूलो सी कोमलता लिये,
पेड़ो की मखमली छांव लिये|

खिली कली आज मेरे आंगन में,
होने से जिसके रंग भरे त्यौहार हैं,
होने से जिसके खील, बताशे, पकवान हैं,
होने से जिसके मेहंदी, टिकिया, कंगन हैं
होते जिसके माथे सहलाते हाथ हैं,
होते जिसके रिश्ते-नाते साथ हैं|

महकाती हैं आज आंगन किसी और का,
बन बहू, पत्नी के रिश्तो में ढालकर|

अंजू निगम

Author
anju nigam
Recommended Posts
देखो खिली मन की कली।
देखो खिली मन की कली......! मैं चंचला चपला अति हूं कल-कल हर्ष सी बहती नदी। मैं प्रीत के मधुर नाद सी प्रेमी युगल संवाद सी।... Read more
मुक्तक
"प्रिय मिलन" सखि भला किस बिधि सुर को सजाऊँ मैं आज आऐंगे मीत पिया ,मन हीं मन मुस्काऊँ मैं आज । मै कुसुम मृदुल आहत... Read more
आज का दिन भी कल के रोज़ सा है
आज का दिन भी कल के रोज़ सा है मे गंगू तेलि ये राजा भोज सा है ज़ुल्फ ही देख लेती है मौसम यहाँ नज़रों... Read more
गज़ल :-- फ़िर भी जला है आग सा मेरा बदन तमाम ।
*गज़ल :-- *फ़िर भी जला है आग सा मेरा बदन तमाम ॥* तरही गज़ल मापनी 221---2121--1221--212/2121 देखा है करके आज ये हमने जतन तमाम ।... Read more