Reading time: 1 minute

बेटियाँ

विधा—-गीतिका
आधार छंद – वाचिक स्रग्विणी (मापनीयुक्त)
वाचिक मापनी – 212 212 212 212
समांत – अती, पदान्त – बेटियाँ।
——————————————————————–
बेटियाँ
~~~||||~~~

वक्त से कीर्तियां खोजती बेटियाँ।
फर्ज रिश्ते सभी सींचती बेटियाँ।

भाल ऊँचा किया कर्म से है सदा,
साधकर लक्ष्य को भेदती बेटियाँ।

खान है नेह की मानसी हो गई,
रागिनी प्रेम की खोजती बेटियाँ।

रूप दुर्गा धरे तो कभी भारती,
धैर्य सीता लिए सोचती बेटियाँ।

सिन्धु साक्षी बनीतो सुनीता कभी,
राष्ट्र गौरव रचा झूमती बेटियाँ।

******************************************
नीरज पुरोहित रुद्रप्रयाग(उत्तराखण्ड)

2 Comments · 31 Views
Copy link to share
Neeraj Purohit
12 Posts · 321 Views
You may also like: