.
Skip to content

बेटियाँ

कमल शर्मा

कमल शर्मा

गज़ल/गीतिका

January 16, 2017

माँ का साया है तो बेटी बाप का गुरूर है !
शान है ससुराल की तो मायके का नूर है !!
आज के इस दौर में बेटा बेटी एक से,
फ़र्क़ करते दोनों में दिमाग का फितूर है !
मानता हूँ बेटियाँ काँधा देने से महरूम है,
बेटी बेहतर बेटों से, इतना मगर ज़रूर है !
है तक़ाज़ा वक़्त का बेटी बचा बेटी पढ़ा,
कौनसी गफलत में तू किस नशे में चूर है !
नज़्म है “कमल ” की ये, पढ़ना ज़रा अदब से तुम,
नज़्मे सियासत है नहीं ये, बेटी का मज़कूर है !
(महरूम=वंचित, नज़्मे सियासत=राजनीति की कविता, मज़कूर=वर्णन )

Author
कमल शर्मा
"कमल" तो सिर्फ शायरी का तालिब है! उस्ताद तो आज भी मीर-औ-ग़ालिब है!
Recommended Posts
बेटियाँ
बेटी बचाइये!बेटी बचाइये!! बेटी से सृष्टि चलती नव सभ्यता पनपती दो-दो कुलों में बनकर दीपक की लौ चमकती बेटी पराया धन है मन से निकालिए।... Read more
गीत. बेटियाँ
गीत **** बेटी नही तो ये जहान क्या जहान है रॊनक कहाँ है फिर तो महज वो मशान है । माँ बाप के अब्सार की... Read more
बेटी
जिस घर के आँगन में बेटी है वहाँ तुलसी की जरूरत नहीं, देखो बेटी की सूरत से जुदा यहाँ किसी देवी की सूरत नहीं। खुशियाँ... Read more
बेटी
बेटी वो घर मन्दिर है जिस घर में माँ की पूजा होती है , वो नसीब वाले माँ बाप हैं जिन के घर बेटी होती... Read more