.
Skip to content

*बेटियाँ*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

गज़ल/गीतिका

August 26, 2016

2122 2122 2122 212
थम गयी साँसें सभी जबसे पढ़ा अख़बार है !
अब भगत-आजाद की इस देश को दरकार है!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
दे रही आँखें गवाही अब हमारी पीर की!
जग गयी यादें सभी अंतर चले तलवार है !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
::::
लेखनी का वर मिला फ़िर भी रही खामोश थी !
हो रहा जो देश में सब कौन जिम्मेदार है !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
डस लिया नाजुक कली को इक विषैले नाग ने !
वो दरिंदा घूमता फिर मौन क्यों सरकार है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
आज वहशी मार देते बच्चियों को जान से!
राज़ सारा खुल गया अब सो चुका करतार है !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
::::::
जाने’ कितने मैडलों को मार डाला कोख में !
मानसिकता देश की अपने बहुत बीमार है !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
कम न समझो बेटियों को छू रही अब ये गगन !
सिंधु साक्षी से हुआ इस देश का उद्धार है !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
ईश की रचना सुता
गीतिका ईश की रचना सुता मापनी- 2122 2122 2122 212 ईश की रचना सुता जन्में सभी को नाज़ हो थाल ठोको इक मधुर संगीत का... Read more
जागते जागते दोपहर हो गयी
ना रही ये खबर कब सहर हो गयी जागते जागते दोपहर हो गयी ... तर्बियत रंजिशों को नज़र हो गयी आशियाने वफ़ा खंडहर हो गयी... Read more
*ज़िंदगी ने अब किया*
2122 2122 2122 212 फाइलातुन फाइलातुन फाइलातुन फाइलुन ज़िंदगी ने अब किया दिल को हमारे शाद है फूल जैसी हर डगर से हो रहे आबाद... Read more
ग़ज़ल/गीतिका
बहर २१२२ २१२२ २१२२ २१२ दोस्तों के वेश में देखो यहाँ दुश्मन मिले चाह गुल की थी मगर बस खार के दंशन मिले | यारों... Read more