.
Skip to content

*बेटियाँ*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

गज़ल/गीतिका

January 12, 2017

आसमां छू रही आज हैं बेटियाँ !
इक महकता हुआ राज़ है बेटियाँ !!

देश के मान को जग में ऊँचा किया !
कम किसी से कहाँ आज हैं बेटियाँ !!

एक कुल का बने मान बेटा मगर!
दो कुलों की रखें लाज हैं बेटियाँ!!

गीत बनकर सभी के दिलों में बसे !
वो सुहाना हसीं साज़ हैं बेटियाँ!!

उस खुदा ने अता की हमें नेमतें!
ये “मुसाफ़िर” कहे ताज है बेटियाँ!!

धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
बेटियाँ
मां की ममता है बेटियाँ । पिता की दुर्बलता है बेटियाँ । पति का पूर्णता है बेटियाँ । परिवार की रौनकता है बेटियाँ । समाज... Read more
हमारी बेटियाँ
माँ का आईना होती है बेटियाँ संस्कृति संस्कारों को संजोती हैं बेटियाँ कोमल भावनामय होती हैं बेटियाँ रीति रिवाजों को सहेजतीं हैं बेटियाँ कहीं बोयीं... Read more
बेटियाँ
।। बेटियाँ ।। सारे संसार में भगवान की सबसे अच्छी कृति हैं बेटियाँ , बाप का मान सम्मान और ईश्वर का वरदान हैं बेटियाँ ।... Read more
बेटियाँ
​बड़े-बड़े काम की हैं बेटियाँ, ईश्वर के नाम की हैं बेटियाँ, घर की लक्ष्मी, घर की इज्जत हैं बेटियाँ, घर को घर बनाने वाली जन्नत... Read more