Jan 11, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

बेटियाँ

हरमन को मनभावन लगती हैं बेटियाँ,
माँ पिता के दिल में बसती हैं बेटियाँ.

रंज हो खुशी हो या हो बिजलियाँ,
दर्द भी ये हँस कर सहती हैं बेटियाँ.

लिबासों,विचारों में कैद कर लिया,
फिर भी आसमां में उड़ती हैं बेटियाँ.

माँ -पिता की वो तो ढाल बन गयी,
संग-संग हरदम चलती हैं बेटियाँ.

बंजर हो याकि वीरां,है दिल की बस्तियां,
बगिया के फूल सी ये खिलती हैं बेटियाँ.

©® आरती लोहनी..

Votes received: 15
1 Like · 173 Views
Copy link to share
arti lohani
arti lohani
65 Posts · 2.2k Views
Follow 2 Followers
You may also like: