.
Skip to content

बेटियाँ

MAHESH CHOUHAN

MAHESH CHOUHAN

कविता

January 11, 2017

मां की ममता है बेटियाँ ।
पिता की दुर्बलता है बेटियाँ ।
पति का पूर्णता है बेटियाँ ।
परिवार की रौनकता है बेटियाँ ।
समाज की एकता हैं बेटियाँ ।
नारी की महानता है बेटियाँ ।
सुख की सफलता है बेटियाँ ।
दुख की विफलता है बेटियाँ ।
स्वर की सुगमता है बेटियाँ ।
संगीत की मधुरता है बेटियाँ ।
तन की सुन्दरता हैं बेटियाँ ।
मन की निर्मलता है बेटियाँ ।
भाव की विभोरता है बेटियाँ ।
स्वभाव की सरलता है बेटियाँ ।
ह्रदय की कोमलता हैं बेटियाँ ।
सहनशीलता की क्षमता हैं बेटियाँ ।
मान,सम्मान और इज्जत है बेटियाँ ।
भारत देश की समानता है बेटियाँ ।
वर्तमान की गतिशीलता है बेटियाँ ।
भविष्य की उज्ज्वलता है बेटियाँ ।

Author
MAHESH CHOUHAN
Recommended Posts
चलती है बेटियाँ
मंजिल की राह मे,चलती है बेटियाँ | चलती है बेटियाँ, बढ़ती है बेटियाँ || दिल हजारो अरमां,संजोती है बेटियाँ | संजोती है बेटियाँ, पिरोती है... Read more
हमारी बेटियाँ
माँ का आईना होती है बेटियाँ संस्कृति संस्कारों को संजोती हैं बेटियाँ कोमल भावनामय होती हैं बेटियाँ रीति रिवाजों को सहेजतीं हैं बेटियाँ कहीं बोयीं... Read more
बेटियाँ
बहुत प्यारी लगती है बेटियाँ बहुत दुलारी लगती है बेटियाँ बेटियाँ लागे सारा संसार हमे बहुत न्यारी लगती है बेटियाँ अपनी होती परछाई है बेटियाँ... Read more
बेटियाँ
बहुत प्यारी लगती है बेटियाँ बहुत दुलारी लगती है बेटियाँ बेटियाँ लागे सारा संसार हमे बहुत न्यारी लगती है बेटियाँ अपनी होती परछाई है बेटियाँ... Read more