बेटियाँ

खुशियाँ नहीँ मनाई जाती , क्यों बेटी जब जन्म है लेती ।
हर घर को खुशियोंकाखजाना ,जबकि अधिकतर बेटी देती ॥
ज्यों ज्यों बेटी बढ़ती जाती ,माँ की जिम्मेदारी लेती ।
हरेक पिता की लाडली बेटी ,पिता के दिल की धड़कन होती ॥
फ़िर भी ऐसा क्यों होता है , जनम पे उसके घर रोता है ।
मात पिता को बोझ बताये , उस बेटे पर घर खुश होता है ॥
क्यों बेटी के त्याग का जज़बा ,इस समाज को समझ ना आता ।
क्यों समाज घर की बेटी को ,इस धरती पर बोझ बताता ॥
घर घर में महिला ही केवल ,बेटी की दुश्मन होती है ।
कब समझेगी घर की दादी ,वो भी कभी बेटी होती है ॥

विजय बिज़नोरी

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "बेटियाँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 51

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 246

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share