.
Skip to content

बेटियाँ

विजय कुमार अग्रवाल

विजय कुमार अग्रवाल

कविता

January 11, 2017

खुशियाँ नहीँ मनाई जाती , क्यों बेटी जब जन्म है लेती ।
हर घर को खुशियोंकाखजाना ,जबकि अधिकतर बेटी देती ॥
ज्यों ज्यों बेटी बढ़ती जाती ,माँ की जिम्मेदारी लेती ।
हरेक पिता की लाडली बेटी ,पिता के दिल की धड़कन होती ॥
फ़िर भी ऐसा क्यों होता है , जनम पे उसके घर रोता है ।
मात पिता को बोझ बताये , उस बेटे पर घर खुश होता है ॥
क्यों बेटी के त्याग का जज़बा ,इस समाज को समझ ना आता ।
क्यों समाज घर की बेटी को ,इस धरती पर बोझ बताता ॥
घर घर में महिला ही केवल ,बेटी की दुश्मन होती है ।
कब समझेगी घर की दादी ,वो भी कभी बेटी होती है ॥

विजय बिज़नोरी

Author
विजय कुमार अग्रवाल
मै पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर शहर का निवासी हूँ ।अौर आजकल भारतीय खेल प्राधिकरण के पश्चिमी केन्द्र गांधीनगर में कार्यरत हूँ ।पढ़ना मेरा शौक है और अब लिखना एक प्रयास है ।
Recommended Posts
वो भी कभी बेटी होती है
खुशियाँ नहीँ मनाई जाती , क्यों बेटी जब जन्म है लेती । हर घर को खुशियोंकाखजाना ,जबकि अधिकतर बेटी देती ॥ ज्यों ज्यों बेटी बढ़ती... Read more
" बेटियाँ " ------------ ये पूछो मत मुझसे क्या होती है बेटी न शब्द न परिभाषा में बंधती है बेटी। * चिड़िया नहीं, ममता से... Read more
वो बेटी ही तो है,जो हसना सिखाती है.
वो बेटी ही तो है,जो हसना सिखाती है, चेहरे की मुस्कान पापा को भा जाती है, लाडली होती है बेटियॉ पिता के लिए,सम्मान यही दिलाती... Read more
*बेटी होती नहीं पराई ...*
बेटी होती नहीं पराई । पराई कर दी जाती है ।। पाल पोसकर जब की बड़ी । कहकर पराई क्यूँ विदा कर दी जाती है... Read more