.
Skip to content

बेटियाँ

Naveen Jain

Naveen Jain

कविता

January 10, 2017

बेटियाँ

कोमल फूल की कली सी होती हैं बेटियाँ ।
माँ बाप के लाड़ में पली होती हैं बेटियाँ ।।
खुशी का पिटारा होतीं हैं बेटियाँ ।
घर का सितारा होतीं हैं बेटियाँ ।।
विनम्रता और लज्जालुता हैं उनके गुण ।
बेटियाँ होतीं हर कार्य में निपुण ।।
बेटियाँ बहादुर वीरांगनाएँ हैं ।
बेटियाँ विश्व की गौरव गाथाएँ हैं ।।
बेटियाँ सिर्फ दो कुलों का ही नहीं करतीं हित ।
बेटियाँ नहीं होने देतीं किसी का भी अहित ।।
बेटियों से नव कल्पनाएँ हैं ।
बेटियाँ मंगल कामनाएँ हैं ।।
बेटियों को खुले आसमान में उड़ान भरने दो ।
बेटियों को नित नए इतिहास गड़ने दो ।।
बेटियाँ मान – सम्मान हैं ।
बेटियाँ विश्व की शान हैं ।।
बेटियों ने जब दिखाया अपना कौशल ।
सम्पूर्ण विश्व रहा चकित एक पल ।।
बेटियाँ अबला नहीं, बलवान हैं ।
बेटियों से ये जहान हैं ।।
बेटियाँ कभी बहिन रूप में भाई को स्नेह देती ।
बेटियाँ कभी माँ रूप में बच्चों को स्नेह धारा में डुबोती ।।

– नवीन कुमार जैन

Author
Naveen Jain
नाम - नवीन कुमार जैन पिता का नाम - श्री मान् नरेन्द्र कुमार जैन  माता का नाम - श्री मती ममता जैन  स्थायी पता - ओम नगर काॅलोनी, वार्ड नं.-10,बड़ामलहरा, जिला- छतरपुर, म.प्र. पिन कोड - 471311 फोन नं -... Read more
Recommended Posts
इंसानियत इंसान से पैदा होती है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी शोहरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का खुला मुख, मनका भी हूँ... धागा भी... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more