23.7k Members 50k Posts

बेटियाँ हैं नसीब

??बेटियाँ??

बेटियाँ हैं नसीब बेटियाँ प्रीत हैं,
ये अयाचित ख़ुशी हर कहीं जीत हैं ।।

बेटा पैदा हुआ तो बधाई हुई,
बेटी पैदा हुई जग हँसाई हुई ,
अपनी होके भीे क्यूँ ये पराई हुई
जाने कैसी जगत की उलट रीत हैं ।।
ये अयाचित ख़ुशी हर…..

जिसने भेजा हमें सबको वो पालता,
बोझ इनको मग़र क्यूँ जगत मानता??
पैदा होने से पहले ही क्यूँ मारता??
बेटियाँ ख्वाबों जैसी मन चीत हैं ।।
ये अयचित ख़ुशी हर …..

इनके होने से ही घर;घर सा लगे ,
जिसके घर बेटियाँ भाग उसके जगे,
बोलती हैं सदा बोल मिश्री पगे,
मन को दे जो सुकूँ ये वही गीत हैं ।।
बेटियाँ हैं नसीब ….

ये विधाता के हाथों की पहचान सी,
जो मुकम्मल हुए उसके अरमान सी,
बेटियाँ आस्था के ही सौपान सी ,
बेटियाँ दर्द में कोई मनमीत हैं ।।
ये अयाचित ख़ुशी हर कहीं जीत हैं ।।

बहते धारों सी हैं कुछ किनारों सी हैं,
ये हैं सूरज नए कुछ बहारों सी हैं,
चाँद सी बेटियाँ अब कटारों सी हैं,
बेटियाँ आग होकर भी संगीत हैं ।।
ये अयाचित ख़ुशी हर कहीं जीत हैं।।

ब्रजेश शर्मा *विफ़ल*
झाँसी

???????

This is a competition entry.

Competition Name: "बेटियाँ" - काव्य प्रतियोगिता

Voting for this competition is over.

Votes received: 27

135 Views
ब्रजेश शर्मा
ब्रजेश शर्मा "विफल"
1 Post · 135 View
मैं ब्रजेश शर्मा झाँसी से , रेलवे में टिकिट चेकिंग में बतौर उप मुख्य टिकिट...