Skip to content

बेटियाँ हैं नसीब

ब्रजेश शर्मा

ब्रजेश शर्मा "विफल"

गीत

January 29, 2017

??बेटियाँ??

बेटियाँ हैं नसीब बेटियाँ प्रीत हैं,
ये अयाचित ख़ुशी हर कहीं जीत हैं ।।

बेटा पैदा हुआ तो बधाई हुई,
बेटी पैदा हुई जग हँसाई हुई ,
अपनी होके भीे क्यूँ ये पराई हुई
जाने कैसी जगत की उलट रीत हैं ।।
ये अयाचित ख़ुशी हर…..

जिसने भेजा हमें सबको वो पालता,
बोझ इनको मग़र क्यूँ जगत मानता??
पैदा होने से पहले ही क्यूँ मारता??
बेटियाँ ख्वाबों जैसी मन चीत हैं ।।
ये अयचित ख़ुशी हर …..

इनके होने से ही घर;घर सा लगे ,
जिसके घर बेटियाँ भाग उसके जगे,
बोलती हैं सदा बोल मिश्री पगे,
मन को दे जो सुकूँ ये वही गीत हैं ।।
बेटियाँ हैं नसीब ….

ये विधाता के हाथों की पहचान सी,
जो मुकम्मल हुए उसके अरमान सी,
बेटियाँ आस्था के ही सौपान सी ,
बेटियाँ दर्द में कोई मनमीत हैं ।।
ये अयाचित ख़ुशी हर कहीं जीत हैं ।।

बहते धारों सी हैं कुछ किनारों सी हैं,
ये हैं सूरज नए कुछ बहारों सी हैं,
चाँद सी बेटियाँ अब कटारों सी हैं,
बेटियाँ आग होकर भी संगीत हैं ।।
ये अयाचित ख़ुशी हर कहीं जीत हैं।।

ब्रजेश शर्मा *विफ़ल*
झाँसी

???????

Share this:
Author
ब्रजेश शर्मा
मैं ब्रजेश शर्मा झाँसी से , रेलवे में टिकिट चेकिंग में बतौर उप मुख्य टिकिट निरीक्षक पदस्थ हूँ ।। मन के भाव शब्दों में उतारने का प्रयास करता हूँ ,ज़िंदगी अपने हर रूप में हर रंग में लुभाती है क्योंकि... Read more
Recommended for you