Reading time: 2 minutes

बेटियाँ अच्छी लगती हैं

तेरी मासूम आँखों में शरारत अच्छी लगती है
मेरी बेटी मुझे तेरी हर आदत अच्छी लगती है

जो सर से पाँव तक है वो नज़ाक़त अच्छी लगती है
परी जैसी जो पाई है वो ज़ीनत अच्छी लगती है

ख़ुदा ने बख़्शी जो मुझको ये नेमत अच्छी लगती है
बना हूँ बाप बेटी का ये अज़मत अच्छी लगती है

शिकम में माँ के जब तू थी तसव्वुर तब भी करता था
मगर अब गोद में आकर हक़ीक़त अच्छी लगती है

तेरे आने से मैरे घर में जैसे इक बहार आई
ये चारो सिम्त बिखरी जो मुसर्रत अच्छी लगती है

तुझे चूमूँ तो कुछ एहसास होता है रूहानी सा
बयाँ मैं कर नहीं सकता वो लज़्ज़त अच्छी लगती है

मेरा चेहरा जो छूती है तू अपने नर्म हाथो से
तेरी नाज़ुक हथेली की नज़ाक़त अच्छी लगती है

मेरी मूछ-ओ-गफ़र नोचे किसी की क्या मज़ाल आख़िर
मगर अय लाड़ली तेरी ये हरक़त अच्छी लगती है

तू सबसे छोटी है फिर भी तू ही मलिका मेरे घर की
रियाया हम तेरी हमको हुकूमत अच्छी लगती है

तुझे ख़ामोश देखूँ तो लगे है बोझ सा दिल पे –
अगर तू चहचहाए तो तबीअत अच्छी लगती है

वो मेरी ही किसी इक बात पे नाराज़ हो जाना
फिर आकर मुझसे मेरी ही शिकायत अच्छी लगती है

मैं सारा दर्द अपना भूल जाता हूँ तेरे ख़ातिर
पसीना जब बहाता हूँ मुशक़्क़त अच्छी लगती है

लगाकर जब तुझे कंधे सुलाता हूँ मैं रातों को
तो अगली सुब्ह तक तेरी हरारत अच्छी लगती है

ख़ता पे मेरी जुर्माना लगाती है तू जब झट से
तो पल में फैसला देती अदालत अच्छी लगती

तू अपनी दादी अम्मी का जब अक्सर सर दबाती है
तो उनके अश्क़ कहते हैं के ख़िदमत अच्छी लगती है

रुलाकर एक दिन मुझको पराये घर तू जायेगी
अमीन आख़िर मैं हूँ तेरा अमानत अच्छी लगती है

तुझे मैं दूर ख़ुद से ज़िन्दगी भर कर नहीं सकता
मगर ये सच है बेटी जब हो रुख़सत अच्छी लगती है

कभी भी फ़र्क़ बेटे में न बेटी में किया “बिस्मिल”
मुझे पुरखो की अपने ये रवायत अच्छी लगती है

अय्यूब ख़ान “बिस्मिल”
दुख्तर=बेटी ,अज़मत=महानता ,शिकम=गर्भ,पेट ,मुसर्रत=ख़ुशी , गफ़र=दाढ़ी ,रियाया=प्रजा
मशक़्क़त=महनत ,हरारत=गर्माहट अमीन=रखवाला , रवायत=रस्म

Votes received: 21
2 Likes · 2 Comments · 183 Views
Copy link to share
Ayub Khan Bismil
1 Post · 183 Views
You may also like: