.
Skip to content

बेटियाँ:जीवन में प्राण

मुकेश कुमार बड़गैयाँ

मुकेश कुमार बड़गैयाँ

कविता

January 28, 2017

बेटियाँ
जीवन में प्राण हैं
प्रभु की प्रतिकृति
सरस्वती ,दुर्गा, लक्ष्मी —
वेदों से अवतरित ऋचाएँ हैं बेटियाँ
वर्षा की रिमझिम
तारों की टिमटिम
पावन गंगा सी बहती सरिताएँ हैं बेटियाँ
कोमल फूलों सी
घर-घर मंदिरों में सजीव प्रतिमाएँ हैं बेटियाँ
आओ !नमन करें ;पूजा करें
देवियाँ हैं बेटियाँ हैं
अरे !ओ!दैत्यो—सावधान!
क्रोधाग्नि की पराकाष्ठा
महाकाली हैं बेटियाँ
अब फर्क नहीं कोई
बेटों और बेटियों में
खेल मे,रण में, मैदान और ज्ञान में
चारों दिशाओं में अब्बल हैं बेटियाँ ।

Author
मुकेश कुमार बड़गैयाँ
I am mukesh kumarBadgaiyan ;a teacher of language . I consider myself a student & would remain a student throughout my life.
Recommended Posts
कविता
"बेटियाँ" अब परिचय की मोहताज नही बेटियाँ आज माँ पिता की सरताज हैं बेटियाँ । गंगा जैसी निर्मल,अग्नि सी निश्च्छल शीतल समीर की झोंका हैं... Read more
हमारी बेटियाँ
माँ का आईना होती है बेटियाँ संस्कृति संस्कारों को संजोती हैं बेटियाँ कोमल भावनामय होती हैं बेटियाँ रीति रिवाजों को सहेजतीं हैं बेटियाँ कहीं बोयीं... Read more
सादर नमस्कार, साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता बेटियाँ में मेरी प्रतिभागिता स्वीकार करें, सादर बेटियाँ” हर घरों की जान सी होती हैं बेटियाँ कुल की कूलिनता पर... Read more
बेटियाँ
बहुत प्यारी लगती है बेटियाँ बहुत दुलारी लगती है बेटियाँ बेटियाँ लागे सारा संसार हमे बहुत न्यारी लगती है बेटियाँ अपनी होती परछाई है बेटियाँ... Read more