Skip to content

!!बेटा और बेटी – एक समान !!

अजीत कुमार तलवार

अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

कविता

April 5, 2017

बेटा वारस है, तो बेटी पारस है.
बेटा वंश है, तो बेटी अंश है.
बेटा आन है, तो बेटी शान है.
बेटा तन है, तो बेटी मन है.
बेटा मान है, तो बेटी गुमान है.
बेटा संस्कार है, तो बेटी संस्क्रति है.
बेटा आग है, तो बेटी बाग है.
बेटा दवा है, तो बेटी दुआ है.
बेटा भाग्य है, तो बेटी विधाता है.
बेटा शब्द है, तो बेटी अर्थ है.
बेटा गीत है, तो बेटी संगीत है.
बेटा प्रेम है, तो बेटी पुजा है.
कुछ भी हो बेटी तो बेटी है
पर बेटा भी तो बेटा ही है न
हर घर की शान भी तो है
पर कभी दोनों में अंतर न करो
प्यार से दोनों को सदा सींचो !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Author
अजीत कुमार तलवार
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906
Recommended Posts
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Neelam Ji कविता Feb 23, 2017
**बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ** पढ़ेगी बेटी आगे बढ़ेगी बेटी । बेटों से भी बढ़कर चमकेगी बेटी । जग में नाम रोशन करेगी बेटी । हर... Read more
बेटी और बेटे में भेद क्यूँ होता ?
??????? बेटी और बेटे में भेद क्यूँ होता ? बहुत सोचा पर समझ नहीं आता ! ??????? कहते बेटा कुल का वारिश है , पर... Read more
बेटी
ताटंक छंद में 1 बेटी नहीं किसी से कम हैं बेटी जग की माया है बेटा यदि है धूप घरों की बेटी घर की छाया... Read more
बेटी की पुकार-------- बेटी ना मारो
फर्क नहीं बेटा बेटी में.....हो ssssss समझो मां के प्यारों। ना बेटी मारो,. ना बेटी मारो ll भगवान की इस नैमत पे ,क्यूं चलता जोर... Read more