बुढ़ापा --आर के रस्तोगी

आ गया है बुढ़ापा,शरीर अब चलता नहीं |
चेहरा जो गुलाब था,वह अब खिलता नहीं ||

हो गयी आँखे कमजोर,अब दिखता नहीं |
काँपने लगे है हाथ,अब लिखा जाता नहीं ||

हो गये है कान कमजोर,अब सुना जाता नहीं |
लगा लिया चश्मा भी,उससे काम चलता नहीं ||

टूट गये सभी दाँत,अब खाना खाया जाता नहीं |
लगा लिया है दाँतो का सैट,पर काम चलता नहीं ||

लड़खड़ाने लगे है पैर उनसे अब चला जाता नहीं |
ले लिया है बैत का सहारा,उससे काम चलता नहीं ||

करता हूँ प्रार्थना ईश्वर से,इस संसार से उठा ले मुझे |
ईश्वर भी सुनता नहीं, क्यों नहीं उठता अब वह मुझे ||

आर के रस्तोगी
मो 997100645

Like 1 Comment 1
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing