बुलंद हौसलों को मिले सहायता (महिला दिवस पर विशेष "कहानी")

ज्योति गुमसुम सी कक्षा में बैठी सोच रही, मुझे क्रिकेट में रूचि होते हुए भी पापा खेलने से रोकते हैं , गांव में पढ़ रही तो क्या हुआ? मैं भी अपने हौसले बुलंद रखते हुए कामयाबी की उड़ान भर सकती हूं । महिला क्रिकेट की सचिन कही जानेवाली, टीम इंडिया की कप्तान मिताली राज जैसा खेलना मुझे । इतने में खेल शिक्षिका आई, कारण जाना, घर गई माता-पिता से मिलने ।

शिक्षिका ने कहा “भारत की बेटियों में बहुत दम” है। बस जरूरत है, हमें उनके हौसले की उड़ान को पूरा करने में सहायता कर उनके विकास हेतु जागरूक होने की ।

Sahityapedia Publishing
Like 2 Comment 0
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.