कविता · Reading time: 1 minute

बुतों का शहर

_कविता_
बुतों का शहर

*अनिल शूर आज़ाद

हर तरह
और/हर रंग के
बुतों का/एक विशाल
अजायबघर है/यह शहर

हर
अच्छी एवं बुरी/घटना के
राजदार हैं/यहां बुत

पर..
बुत आखिर
एक बुत ही
होता है

इसलिए/प्रायः
चुप ही/रहते हैं
यहां लोग।

(रचनाकाल : वर्ष 1986)

43 Views
Like
42 Posts · 4.8k Views
You may also like:
Loading...