.
Skip to content

बुतों का शहर

Anil Shoor

Anil Shoor

कविता

December 2, 2016

_कविता_
बुतों का शहर

*अनिल शूर आज़ाद

हर तरह
और/हर रंग के
बुतों का/एक विशाल
अजायबघर है/यह शहर

हर
अच्छी एवं बुरी/घटना के
राजदार हैं/यहां बुत

पर..
बुत आखिर
एक बुत ही
होता है

इसलिए/प्रायः
चुप ही/रहते हैं
यहां लोग।

(रचनाकाल : वर्ष 1986)

Author
Anil Shoor
Recommended Posts
ग़ज़ल (इस शहर  में )
ग़ज़ल (इस शहर में ) इन्सानियत दम तोड़ती है हर गली हर चौराहें पर ईट गारे के सिबा इस शहर में रक्खा क्या है इक... Read more
तेरा शहर ।।
हाथ खाली है तेरे शहर से जाते जाते। जान होती तो मेरी जान लौटाते जाते।। अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है। उमर... Read more
मुक्तक
जब तेरी याद आती है , मैं हर गम भूल जाता हूँ . ऐ दोस्त बड़ा खूबसूरत है शहर तेरा , मैं यहाँ हर रोज... Read more
इस शहर में (ग़ज़ल)
इस शहर में दिल के काले है बहुत अपने धुन पे गुम मतवाले है बहुत कैसा ये शहर प्यासा भटके पानी को हर गली चौराहों... Read more