बुढापे का दुख

*दो दोहे*
श्रमिक बना सुत ने किया, कितना आज तटस्थ।
हाय बुढापे में हुआ, सतनय पिता दुखस्थ।
*****
बुरा रोग है दीनता, यमघट तक है संग।
क्या युवक क्या वृध्दजन, कर दे ढीले अंग।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

1 Like · 13 Views
कार्य- अध्ययन (स्नातकोत्तर) पता- रामपुर कलाँ,सबलगढ, जिला- मुरैना(म.प्र.)/ पिनकोड-476229 मो-08827040078 View full profile
You may also like: