31.5k Members 51.8k Posts

बीटीया

Jan 23, 2017 08:07 PM

बाहों में झुलाया, गोदी में खीलाया ।
सिने पर सुलाया, पीठ पर खिलाया ।
खुद रो कर , तुझको हसाया ।
कांटों से बचाया, मल-मल पर सुलाया ।
बेटी होकर बेटे का फर्रज़ नीभाया ।
यह मेरी बिटीया रानी है ।
पिता की प्यारी, माँ को लगे न्यारी ।
यह मेरी बीटीया रानी है, यह मेरी बीटीया रानी है ।
समय बीता, बीते दिन रात ।
आज चली वह लेकर मेरे सपनों की सौगात ।
जो सिखाया माँ ने, सब थी अछी बात ।
आज चली वह रखने अपने पिता की लाज ।
यह मेरी बीटीया रानी है, यह मेरी बीटीया रानी है ।
छोड चली भीगी पलकें, बननें सास-ससुर की लाज ।
यह मेरी बीटीया रानी है, यह मेरी बीटीया रानी है ।

Voting for this competition is over.
Votes received: 60
1 Like · 568 Views
Ravinder Singh Sahi
Ravinder Singh Sahi
3 Posts · 689 Views
You may also like: